तापमान 45 पार, तेज धूप और गर्म हवा से जनजीवन अस्त व्यस्त

बच्चे बुजुर्ग एवं गर्भवती महिलाओं को सावधान रहने की जरूरत : डॉ मनीष सिन्हा

पाकुड़ । त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के पारा के साथ साथ मौसम का मिजाज हाई है। पिछले 2 दिनों से तापमान 44  से 46  डिग्री सेल्सियस  पार कर गया है। फल स्वरुप लोगों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। लू लगने का खतरा भी बढ़ चुका है।

दोपहर 11:00 बजे से शाम के 5:00 बजे तक आग उगलती तेज धूप और गर्म हवा से लोग परेशान हैं। घरों के अंदर लगे पंखे भी अब ठंड हवा की जगह गर्म हवा का अनुभव दिला रहे है। हां जिनके घर में एयर कंडीशनर की व्यवस्था है।  वे लोग अन्य लोगों का अपेक्षा थोड़ी शांति में जरूर है। लेकिन बिजली की वर्त्तमान स्थिति ने उन्हें भी निराश किया है।

बिजली रानी की आंख मिचोनी, नगर परिषद क्षेत्र में पानी की कमी से भी लोग परेशान और हलकान हैं। लोग जल खरीदना प्रारंभ कर दिया है। दिनभर बिजली का आना जाना जिस प्रकार से चल रहा था। लोग काफी परेशान हुए। देश प्रहरी के न्यूज़ रूम ने भी इस परेशानी को झेला। जिससे न्यूज़ लगाने में काफी जदोजहद करनी पड़ी। सुचारू रूप से बिजली के ना होने पर इंटरनेट सेवा बाधित रही।

डॉक्टर मनीष कुमार सिन्हा बताते हैं कि इस समय हर व्यक्ति को तेज धूप से गर्म हवा से बचना चाहिए। हर हमेशा अत्याधिक रूप में जल का सेवन करना चाहिए। बाजार में उपलब्ध केमिकल युक्त पेय पदार्थ से बचना चाहिए। डाभ का जल इस समय सर्वोत्तम है। छाछ का प्रयोग कर सकते हैं। एकदम से ठंडा पानी शरीर के लिए हानिकारक है , इससे बचना चाहिए। नींबू जल या आम बेल के शरबत भी सर्वोत्तम है। जंक फूड, मसालेदार खाना से परहेज करना चाहिए। उन्होंने आम जनता से तेज धूप में बाहर ना  निकलने। बच्चे एवं बुजुर्ग व्यक्ति एवं खास करके गर्भवती महिलाओं को सावधानी बरतने की सलाह दी। 

लू लगने के लक्षण

तेज फीवर, हेडेक, चक्कर आना, बेहोशी होना आदि लू लगने के लक्षण हैं।

बचाव - ढीले ढाले सूती वस्त्र का प्रयोग करें। जल का सेवन अधिक करें। लू लगने पर व्यक्ति को ठंडे स्थान पर खुली हवा में रखना चाहिए। पानी की पट्टी देनी चाहिए तथा जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

राजकुमार भगत की रिपोर्ट

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदेश के दवाब पर ही सही आखिर सच्चाई तो उपायुक्त पाकुड़ के सामने आ ही गई

वैध माइनिंग, अवैध परिवहन के खिलाफ जिला खनन टास्क फोर्स सख्त

कृषि पशु पालन एवं सहकारिता विभाग द्वारा एक दिवसीय प्रशिक्षण दिया गया